May 25, 2024 4:14 am

सोशल मीडिया :

अभिभावकों को खास दुकानों से पाठ्यक्रम की किताबों के अलावा अन्य प्रकाशकों की महंगी किताबें खरीदने हेतु बाध्य करने पर नालंदा हायर सेकेण्डरी स्कूल की होगी जांच,अन्य विषयों की किताबें निजी प्रकाशकों से खरीदने किया जा रहा बाध्य

अभिभावकों को खास दुकानों से पाठ्यक्रम की किताबों के अलावा अन्य प्रकाशकों की महंगी किताबें खरीदने हेतु बाध्य करने पर नालंदा हायर सेकेण्डरी स्कूल की होगी जांच,अन्य विषयों की किताबें निजी प्रकाशकों से खरीदने किया जा रहा बाध्य
कटनी।। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से संबद्ध नालंदा हायर सेकेण्डरी स्कूल झिझंरी द्वारा नसरत की पुस्तकों के साथ अन्य निजी प्रकाशकों की पुस्तकें और अन्य सामग्री क्रय करने हेतु पालकों पर अनुचित दबाव बनाने के मामले की जांच हेतु तीन सदस्यीय जांच समिति गठित की गई है। ये जांच समिति तीन दिवस के भीतर जांच प्रतिवेदन जिला समिति को प्रस्तुत करेगी। कलेक्ट अवि प्रसाद की अध्यक्षता मे सोमवार को आयोजित जिला समिति की बैठक में 4 शिकायतकर्ताओं द्वारा की गई शिकायतों पर चर्चा के बाद नालंदा हायर सेकेंडरी स्कूल झिंझंरी द्वारा मध्य प्रदेश निजी विद्यालय फीस तथा संबंधित विषयों का विनियम अधिनियम एवं नियम के पालन सहित केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा जारी निर्देशों के पालन की समीक्षा की गई। नालंदा हाई सेकेंडरी स्कूल प्रबंधन के संबंध में प्राप्त शिकायत के अवलोकन पर जिला समिति ने पाया की संस्कृत को छोड़कर शेष अन्य विषयो की NCERT व CBSE से भिन्न और अधिक मूल्य की पुस्तकें क्रय करने छात्रों को बाध्य किया जा रहा है। जो स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देशों का घोर उल्लंघन है।

490 की हिंदी और 615 रुपए की साइंस बुक

शिकायतकर्ताओं द्वारा बताया गया है कि नालंदा हायर सेकेंडरी स्कूल प्रबंधन द्वारा NCERT के स्थान पर अन्य प्रकाशकों की महंगी पुस्तकें विशेष दुकान से खरीदने अभिभावकों को बाध्य किया जाता है। पालकों को साइंस की किताब 615 रुपए में,सोशल साइंस की 605 रुपए में,गणित की 595 रूपये मे, हिंदी ग्रामर की 585 रुपए में तो हिंदी की पुस्तक 490 रूपए में और अंग्रेजी ग्रामर की 365 रुपए मूल्य पर चुनिंदा प्रकाशकों की पुस्तकें खास दुकान से खरीदने बाध्य किया जाता है।

निजी प्रकाशकों की किताबें खरीदने किया जा रहा बाध्य
कलेक्टर श्री प्रसाद की अध्यक्षता वाली समिति के पास नालंदा स्कूल प्रबंधन के संबंध में कई गंभीर शिकायतें मिली है जिनमें CBSE व NCERT द्वारा मुद्रित व निर्धारित पाठ्यक्रम की पुस्तकों के स्थान पर अन्य प्रकाशकों की पुस्तकों का चयन कर अभिभावकों को दुकान से पाठ्य पुस्तक व अन्य सामग्री क्रय करने अप्रत्यक्ष रूप से बाध्य किया जाता है।
यह है निर्देश
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड द्वारा 12 अप्रैल 2016 को जारी निर्देशों में स्पष्ट है कि छात्रों एवं उनके पालकों को NCERT और और CBSE से भिन्न प्रकाशकों की पुस्तक खरीदने के लिए अनुचित दबाव न बनाया जावे।

तीन सदस्य समिति करेगी जांच
जिला समिति ने बैठक में शिकायतों पर चर्चा के उपरांत नालंदा हायर सेकेंडरी स्कूल झिंझरी की उपरोक्त शिकायतों की जांच हेतु तीन सदस्यीय समिति गठित की है । जो तीन दिन में जांच प्रतिवेदन जिला समिति को देगी। समिति में प्राचार्य डाइट एमपी डुंगडुंग,विकासखंड शिक्षा अधिकारी कटनी बी एल रोहित और प्राचार्य शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हरदुआ श्री मती नीरजा मीता अर्नाल्ड को शामिल किया गया है।
जिला समिति की बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी पी पी सिंह, जिला कोषालय अधिकारी अरविंद सिंह ठाकुर और सहायक संचालक शिक्षा राजेश अग्रहरि मौजूद रहे।

Share This Post:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

क्रिकेट लाइव स्कोर

बड़ी ख़बरें

इंडी गठबंधन भ्रष्टाचारियों का जमघट,जिसने चोरी भ्रष्टाचार किया उसे जेल जाना पड़ेगा बरही में गरजे अमित शाह,’कमलनाथ-बंटाधार से मांगा एमपी के विकास का हिसाबस,भा के दौरान पूर्व महापौर सहित 250 कांग्रेसियों ने ली भाजपा की सदस्यता